Shayari

नज़र

Posted on

💕💦 *नज़र से “नज़र” मिलाकर तुम “नज़र” लगा गए….* *ये कैसी लगी “नज़र” की हम हर “नज़र” में आ गए….*💕💦

Loading Likes...
Shayari

एक लम्हा

Posted on

तुम्हारे.. एक लम्हें पर भी मेरा हक़ नहीं… ना जाने… तुम किस हक़ से मेरे हर लम्हें में शामिल हो..✍🏻

Loading Likes...